❤श्री राधिका ब्रजचन्द्र❤

 
❤श्री राधिका ब्रजचन्द्र❤
This Stamp has been used 2 times
नंद नँदन बृषभानु किसोरी, मोहन राधा खेलत होरी । श्रीबृंदावन अतिहिं उजागर, बरन बरन नव दंपति भोरी ॥ एकनि कर है अगरु कुमकुमा , एकनि कर केसरि लै घोरी । एक अर्थ सौं भाव दिखावति, नाचति तरुनि बाल बृध भोरी ॥ स्यामा उतहिं सकल ब्रज-बनिता, इतहिं स्याम रस रूप लहो री । कंचन की पिचकारी छूटति, छिरकत ज्यौं सचुपावैं गोरी ॥ अतिहिं ग्वाल दधि गोरस माते, गारी देत कहौ न करौ री । करत दुहाइ नंदराइ की, लै जु गयौ कल बल छल जोरी ॥ झुंडनि जोरि रही चंद्रावलि, गोकुल मैं कछु खेल मच्यौ री । सूरदास -प्रभु फगुआ दीजै, चिरजीवौ राधा बर जोरी ॥
Tags:
 
shwetashweta
uploaded by: shwetashweta

Rate this picture:

  • Currently 5.0/5 Stars.
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5

4 Votes.