☀ॐ नमः शिवाय☀

 
☀ॐ नमः शिवाय☀
This Stamp has been used 1 times
जँाचिये गिरिजापति कासी। जासु भवन अनिमादिक दासी।। औढर-दानि द्रवत पुनि थोरें। सकत न देखि दीन कर जोरें।। सुख-संपति, मति-सुगति, सुहाई। सकल सुलभ संकर-सेवकाई।। गये सरन आरतिकै लीन्हें। निरखि निहाल निमिषमहँ कीन्हें।। तुलसिदास -जातक जस गावैं। बिमल भगति रघुपतिकी पावै। (2) क्कस न दीनपर द्रवहु उमाबर। दारून बिपति हरन करूनाकर।। बेद-पुरान कहत उदार हर। हमरि बेर कस भयेहु कृपिनतर।। कवनि भगति कीन्ही गुननिधि द्विज। होइ प्रसन्न दिन्हेहु सिव पद निज।। जो गति अगम महामुनि गावहिं। तव पुर कीट पतंगहु पावहिं।। देहु काम-रिपु!राम-चरन-रति। तुलसिदास प्रभु! हरहु भेद-मति।।
Tags:
 
shwetashweta
uploaded by: shwetashweta

Rate this picture:

  • Currently 5.0/5 Stars.
  • 1
  • 2
  • 3
  • 4
  • 5

5 Votes.